सत्र शुरू होने से पहले पीएम मोदी ने विपक्ष से कहा नफरत छोड़े, संसद को हार का मंच न बनाएं

Admin

PM modi

Share this

नई दिल्ली. पीएम नरेन्द्र मोदी ने संसद के शीतकालीन सत्र की शुरूआत के बाद मीडिया से बात करते हुए विपक्ष से आह्वान किया कि वे संसद को हार का गुस्सा निकालने का मंच ना बनायें और नकारात्मकता एवं नफरत छोड़ें। सकारात्मक विचार के साथ देश को 2047 तक विकसित भारत बनाने के लिए जनता की आकांक्षा को पूरा करने में सहयोग दें।

श्री मोदी ने अपने वक्तव्य में चार राज्यों के चुनावी परिणामों को नकारात्मकता के विरुद्ध जनादेश बताते हुए कहा, “कल ही 4 राज्यों के चुनाव नतीजे आए हैं। जो उनके लिए उत्साहवर्धक हैं। पीएम मोदी ने कहा, “सभी समाजों और सभी समूहों की महिलाएं, युवा, हर समुदाय और समाज के किसान और मेरे देश के गरीब। ये चार महत्वपूर्ण जातियां हैं जिनके सशक्तिकरण, उनके भविष्य को सुनिश्चित करने वाली ठोस योजनाएं और अंतिम व्यक्ति तक पहुंच के उसूलों पर जो चलता है, उन्हें भरपूर समर्थन मिलता है।”

इसे भी पढ़ें  शंखनाद करता हुआ सूर्य की ओर बढ़ा भारत का Aditya L1, चंद्रयान-3 के बाद अब इसरो का दूसरा बड़ा कमाल

PM Modi कि इतने उत्तम जनादेश के बाद आज हम संसद के इस नए मंदिर में मिल रहे हैं। जब इस नए परिसर का उद्घाटन हुआ था, तो उस समय एक छोटा सा सत्र था और एक ऐतिहासिक निर्णय हुआ था। लेकिन इस बार लंबे समय तक इस सदन में कार्य करने का मौका मिलेगा।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, “अगर मैं वर्तमान चुनाव नतीजों के आधार पर कहूं, तो ये विपक्ष में बैठे हुए साथियों के लिए स्वर्णिम अवसर है। इस सत्र में पराजय का गुस्सा निकालने की योजना बनाने के बजाय, इस हार से सीखकर, पिछले 9 साल में चलाई गई नकारात्मकता की प्रवृत्ति को छोड़ें तो देश उनकी तरफ देखने का दृष्टिकोण बदलेगा।”

इसे भी पढ़ें  Vivo के स्मार्टफोन में मिलेगा हवा में उड़कर फोटो खींचने वाला Drone कैमरा, चार्मिंग लुक ने मचाया तहलका, जानें कीमत और Specification

Share this