Sunday, May 19, 2024
HomeAstrologyShani Jayanti 2023: ये 4 राशियां शनिदेव की प्रिय, शनि जयंती पर...

Shani Jayanti 2023: ये 4 राशियां शनिदेव की प्रिय, शनि जयंती पर बन रहे 3 शुभ योग

Shani Jayanti 2023:  इस साल शनि जन्मोत्सव 19 मई 2023 को मनाया जाएगा। ज्योतिष के अनुसार में शनि देव की 4 राशियां प्रिय बताई गई हैं, इन पर शनि हमेशा प्रसन्न व मेहरबान रहते हैं। वहीं इस साल शनि जयंती पर गजकेसरी, शश योग और शोभन योग बन रहे है। ज्योतिषियों के अनुसार शनि जयंती पर शोभन योग का निर्माण तो 30 साल बाद हो रहाहै। इस योग का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा, सुख, समृद्धि और धन-वैभव में वृद्धि होगी।

शनि की 4 प्रिय राशियां

वृषभ राशि – वृषभ राशि के स्वामी शुक्र ग्रह है। शनि और शुक्र में मित्रता का भाव माना जाता है इसके चलते कि शनि की मेहरबानी से वृषभ राशि वालों को उन्नति प्राप्त होती है। शुक्र की राशियों में शनि योगकारक माने जाते हैं। शनि के गोचर से वृषभ राशि वालों को हानि नहीं होती है।

तुला राशि – तुला शनि देव की उच्च राशि है और तुला शुक्र की राशि है। इस राशि के लोगों को शनि देव की दृष्टि का बुरा प्रभाव नहीं होता है।  कर्म फलदाता शनि की कृपा से तुला राशि वालों को शनि जयंती पर आर्थिक लाभ मिलेगा। शनि की कृपा से हर क्षेत्र में कामयाबी प्राप्त होगी।

मकर राशि – शनि देव मकर राशि के स्वामी है और यह शनि की सबसे प्रिय राशि है। शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के दौरान भी इन राशियों को शनिदेव अधिक कष्ट नहीं देते हैं। ज्योतिष में कहा गया है कि मकर राशि वाले किसी भी काम को अपूर्ण नहीं छोड़ते इनके परिश्रम के फलस्वरूप इन्हें शनि देव के दुष्प्रभाव नहीं सेहना पड़ते।

कुंभ राशि – कुंभ शनि देव की ही राशि है, इसके चलते कुंभ राशि के लोगों पर शनिदेव का अशुभ प्रभाव बेहद कम समय के लिए रहता है, हालांकि अभी कुंभ राशि वालों को शनि की साढ़ेसाती चल रही है लेकिन शनि जयंती पर शनि देव का तेल से अभिषेक करें, इससे आपको शुभ फल प्राप्त होगा।

कुंडली में क्रूर ग्रह राहु का अशुभ प्रभाव हर जगह कराएगा हानि, बचने के लिए करें ये उपाय

Admin
Adminhttps://www.babapost.in
हम पाठकों को देश में हो रही घटनाओं से अवगत कराते हैं। इस वेब पोर्टल में आपको दैनिक समाचार, ऑटो जगत के समाचार, मनोरंजन संबंधी खबर, राशिफल, धर्म-कर्म से जुड़ी पुख्ता सूचना उपलब्ध कराई जाती है। babapost.in खबरों में स्वच्छता के नियमों का पालन करता है। इस वेब पोर्टल पर भ्रामक, अपुष्ट, सनसनी फैलाने वाली खबरों के प्रकाशन नहीं किया जाता है।
RELATED ARTICLES

Most Popular