सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? What is Sukanya Samriddhi Yojana? कैसे मिलेगा लाभ, जानें पूरी डिटेल

Admin

Sukanya Samriddhi Yojana

Share this

Sukanya Samriddhi Yojana सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? : बालिकाओं को आर्थिक सुरक्षा के लिए केंद्र सरकार ने बेटी पढाओ, बेटी बचाओ योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana ) की शुरुआत की गई है। Sukanya Samriddhi Yojana (SSY) की शुरुआत आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों में जन्म लेने वाली बालिकाओं को भविष्य में आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़े, इस उद्देश्य से की गई है।

Sukanya Samriddhi Yojana क्या है?

SSY एक छोटी बचत योजना है, जो लंबी अवधि के लिए संचालित की जाती है। सुकन्या योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) में माता-पिता अपनी बेटियों के नाम पर निवेश करते हैं। SSY में निवेश पर उन्हें इनकम टैक्स में छूट भी मिल सकती है। साथ ही इसमें बेटियों के नाम एक बड़ा फंड जमा हो जाता है। सुकन्या समृद्धि योजना में बेटियों की उम्र 10 वर्ष पूरी होने से पहले निवेश किया जाता है।

Sukanya Samriddhi Yojana – महत्वपूर्ण तथ्य

योजना का नाम (Name of Scheme) – सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana)

यह स्कीम किसके द्वारा शुरू की गई – केंद्र सरकार (Central Government)
सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य – बालिकाओं के भविष्य को आर्थिक रूप से मजबूत बनाना। उनकी शादी और पढ़ाई के लिए धन एकत्रित करना
पात्रता – बालिकाओं की उम्र 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
कितनी बच्चियों को मिलेगा लाभ (Benefits)
परिवार की दो बालिकाओं को लाभार्थी बनाया जाएगा।
उद्देश्य बच्चियों की शादी तथा उच्च शिक्षा के लिए आर्थिक मजबूती प्रदान करना

सुकन्या समृद्धि योजना की महत्वपूर्ण बातें (Sukanya Samriddhi Yojana)

Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत माता-पिता या अभिभावक बालिकाओं के नाम पर खाता खोलते हैं। ताकि उनकी शादी या उच्च शिक्षा हासिल करने में उन्हें आर्थिक सहायता मिल सके। सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) के अंतर्गत खोले गए खाते में कम से कम 15 साल का निवेश करना जरुरी होता है। खाते में किये गए निवेश पर वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 7.6% की दर से ब्याज दिया जा रहा है। यदि निवेशकर्ता सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत एक साल में 1.5 लाख रुपये या इससे अधिक का निवेश करते हैं तो उन्हें टैक्स में छूट भी मिलती है। इसीलिए निवेशकों को भविष्य में अपनी बेटियों के लिए बड़ी रकम एकत्रित करने के लिए इस योजना में निवेश की सलाह दी जाती है।

इसे भी पढ़ें  UPSC Recruitment 2023: यूपीएससी करेगा एडीजी सहित इन पदों पर भर्ती, आवेदन शुरू

Sukanya Samriddhi Yojana का लाभ परिवार की कितनी बेटियों को मिलेगा

  • सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत वैसे तो परिवार की केवल दो बेटियों को ही लाभार्थी बनाया जा सकता है। लेकिन कुछ मामलों में यह संख्या बढ़ सकती है।
  • यदि परिवार में पहले से एक बेटी है और फिर जुड़वां या इससे ज्यादा बालिकाओं का जन्म एक साथ होता है तो उन्हें भी योजना का लाभार्थी बनाया जाएगा।
  • पहले से जुड़वां या दो से ज्यादा बालिकाओं के एक साथ जन्म के मामले में बाद में जन्म लेने वाली बच्ची इस योजना के अंतर्गत पात्र नहीं होगी।
  • क़ानूनी रूप से गोद ली हुई बच्ची को भी योजना का लाभ दिया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे (Benefits of Sukanya Samriddhi Yojana)

  • यह एक सरकारी सेविंग स्कीम है। जिसे केन्द्रीय सरकार द्वारा बेटियों के भविष्य को उज्जवल बनाने से उद्देश्य से शुरू किया गया है।
  • इसमें बाजार जोखिम नहीं है। यानी गारंटीड रिटर्न मिलता है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना एक लंबी अवधि के लिए शुरू की गई छोटी बचत योजना है। जिसमें वार्षिक कंपाउडिंग का लाभ मिलता है। यानी कम निवेश में भी अच्छा रिटर्न प्राप्त होता है।
  • गोद ली हुई बच्ची यानी दत्तक पुत्री को भी योजना में शामिल किया जाता है।
  • Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत निवेशक अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार निवेश कर सकता है। इसमें एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक इन्वेस्ट किये जा सकते हैं।
  • बालिका की उम्र 18 साल की हो जाने या कक्षा 10वीं उत्तीर्ण करने के बाद भी खाते से कुछ राशि निकाली जा सकती है। लेकिन आप एक साल में केवल एक बार ही खाते से निकासी कर सकते हैं।
  • सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) को भारत सरकार ने करमुक्त रखा है। इसमें निवेश की गई राशि, उस पर प्राप्त ब्याज के साथ ही साथ मैच्युरिटी पर मिलने वाली राशि भी टैक्स फ्री होती है। यानी टैक्स बेनिफिट भी मिलता है।
  • खाते को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस या एक बैंक से दूसरे बैंक में आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है। लेकिन ऐसा तभी किया जाता है जब खाता धारक मूल जगह से कहीं और चला गया हो। ऐसे मामले में उन्हें शिफ्ट होने का प्रूफ प्रस्तुत करना होगा, इसके बाद सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के अंतर्गत खोले गए खाते का ट्रांसफर हो जाएगा।
इसे भी पढ़ें  Chhattisgarh में भारी बारिश की चेतावनी, येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी

Share this