Friday, July 12, 2024
HomeTechnologyइसराइल और ईरान की तनातनी के बीच जानिए क्या है क्वाडकॉप्टर, कैसा...

इसराइल और ईरान की तनातनी के बीच जानिए क्या है क्वाडकॉप्टर, कैसा करता है यह काम

WhatsApp GroupJoin

Israel strike on iran: इजरायल और ईरान के बीच चल रही तनातनी से पूरी दुनिया में हलचल मची हुई है। इसी बीच मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान के इस्फहान शहर में शुक्रवार को तड़के तेज धमाके सुनाई दिए ।

अमेरिकी अधिकारी ने ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टर ABC को बताया कि इजराइल ने ईरान के एक क्षेत्र पर मिसाइलें दागी हैं। इसके बाद से इस्फहान एयरपोर्ट के पास से विस्फोट की रिपोर्ट सामने आने लगी। लेकिन ईरान ने बताया है कि इजरायल ने Quadcopter से हमला किया था। जिसको हवा में ही मार दिया गया है। वहीं रॉयटर्स से बातचीत में ईरान के अधिकारियों ने किसी भी तरह के मिसाइल हमले से इनकार किया है। ईरान की स्पेस एजेंसी के प्रवक्ता होसैन डेलिरियन ने ट्विट में इसे “कुछ क्वाडकॉप्टर के साथ एक असफल हमला” कहा है।

डेलिरियन ने तो साफ कह दिया है कि इस्फहान या हमारे देश के किसी अन्य हिस्से को निशाना बनाकर इजरायल ने कोई हमला नहीं किया है। लेकिन यह जरूर है कि हमारे एरिया में कुछ क्वाडकॉप्टर को तैनात करने की इजरायल की कोशिश थी, लेकिन समय रहते ही उसे आसमान में ही नष्ट कर दिया गया।

जानिए क्वाडकॉप्टर के बारे में (Quadcopter)।

क्वाडकॉप्टर (Quadcopter) स्पेशल ड्रोन होता है। जिसमें चार अलग उड़ने के लिए पंखे होते हैं। ये रोटर्स कहलाते हैं। इसके चलते इन्हें क्वाडरोटर भी कहा जाता है। यह अनमैन्ड एरियर व्हीकल (UAV) के नाम से ज्यादा प्रचलित हैं। ड्रोन्स रिमोट कंट्रोल से संचालित होते हैं। एक बाज के आकार के या उससे छोटे बड़े हो सकते हैं। यह भी कह सकते हैं कि ये छोटे एरोप्लेन या छोटे हैलीकॉप्टर होते हैं।

ऐसे होते हैं कंट्रोल

क्वाडकॉप्टर को रिमोट कंट्रोल (Remote control) से ही संचालित किया जाता है।इसके दो Rotor घड़ी की सुईयों की दिशा (Clockwise) में और दो रोटर घड़ी की सुईयों की विपरीत दिशा (Anitclockwise) में घूमते हैं। सभी रोटर्स के एक ही दिशा में घूमने पर क्वाडकॉप्टर की उड़ान कंट्रोल नहीं हो पाएगी।

इसे भी पढ़ें – Google ने यूजर्स को चेताया, वेब ब्राउजर से जुड़ा ये काम तुरंत कर लें, नहीं तो बाद में पछताएंगे!

क्वाडकॉप्टर (Quadcopter) का काम

क्वाडकॉप्टर (Quadcopter) का सबसे अधिक उपयोग सेना (Army) में ही होता है। जिससे किसी कठिन भूभागों में नजर रखना भी शामिल है।आईडीएफ के एक वरिष्ठ सूत्र के अनुसार, इस ड्रोन की सबसे खास बात यह है कि बिना देरी के लक्ष्य तक पहुंच जाती है। इसके रखरखाव में आसानी होती है। इंजन की खराबी के बाद भी लक्ष्य को भेद सकता है। खतरे की चेतावनी आने पर कुछ ड्रोन की लाइटें अपने आप बंद हो जाती हैं।

Admin
Adminhttps://www.babapost.in
हम पाठकों को देश में हो रही घटनाओं से अवगत कराते हैं। इस वेब पोर्टल में आपको दैनिक समाचार, ऑटो जगत के समाचार, मनोरंजन संबंधी खबर, राशिफल, धर्म-कर्म से जुड़ी पुख्ता सूचना उपलब्ध कराई जाती है। babapost.in खबरों में स्वच्छता के नियमों का पालन करता है। इस वेब पोर्टल पर भ्रामक, अपुष्ट, सनसनी फैलाने वाली खबरों के प्रकाशन नहीं किया जाता है।
RELATED ARTICLES

Most Popular